राजघाट नहर प्रणाली से किसान हुए समृद्ध

Posted on 12 Jan, 2018 3:11 pm

 

 

दतिया जिले में किसान परम्परागत खेती करते थे। इससे उनका गुजर बसर तो हो जाता था किन्तु उनके जीवन में समृद्धि संभव नहीं थी। राजघाट नहर प्रणाली विकसित होने से किसानों की समृद्धि का मार्ग प्रशस्त हो गया है। आज सूखे की स्थिति में भी राजघाट नहर द्वारा भरपूर पानी किसानों को मिल रहा है। ढ़ाई लाख किसानों ने एक लाख 94 हजार हैक्टेयर में पलेवा के अलावा सिंचाई भी कर ली है। अब किसान दूसरी सिंचाई की तैयारी कर रहे हैं।

राजघाट नहर प्रणाली से दतिया जिले में घोषित सिंचाई क्षमता एक लाख 94 हजार हैक्टेयर है। इसके विरूद्ध शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त कर लिया गया है। नहर प्रणाली से 749 गांव में सिंचाई हो रही है। राजघाट नहर प्रणाली से लोगों के जीवन में खुशहाली और समृद्धि आई है।

जिले में पहले एक, दो बड़े किसानों के पास ट्रैक्टर होते थे। अब गांव में ट्रैक्टरों की बाढ़ सी-आ गई है। जिले में हार्वेस्टर भी हैं। किसान हायरिंग सेंटर से भी उन्नत खेती कर रहे हैं। अब दतिया जिले में किसानों के बच्चे अग्रेंजी माध्यम के स्कूल में पढ़ रहे हैं।

 सक्सेस स्टोरी (दतिया)

साभार – जनसम्पर्क विभाग मध्यप्रदेश